फरीदाबाद में क्या है ? Complete Details About Faridabad Hindi

फरीदाबाद में क्या है ? हरियाणा के फरीदाबाद की स्थापना जहांगीर के खजांची शेख फरीद द्वारा ए डी 1707 में शहर के माध्यम से पारित राजमार्ग की रक्षा करने के उद्देश्य से की थी। उस वक्त शेख फरीद ने एक किला, एक टैंक और एक मस्जिद बनवाया था। वक्त चलते यह एक परगना का मुख्यालय बन गया जो बल्लभगढ़ शासक द्वारा जगीर में आयोजित किया गया था। इसे सरकार ने जब्त कर लिया क्योंकि शासक ने 1857 के विद्रोह में साझेदारी कर ली था।

फरीदाबाद टाउनशिप के लिए पसंद की गई साइट दिल्ली-मथुरा नेशनल हाईवे के पश्चिमी किनारे पर 18.1 वर्ग किलोमीटर के विस्तार को कवर करती है। सरकार ने उत्तर-पश्चिम फ्रंटियर प्रांत और डेरा गाज़ी खान जिला (जो कि अब पाकिस्तान में, 1947 में है) लोगों के पुनर्वास के हेतु विस्थापित किया था। इस टाउनशिप का संपूर्ण ही नियंत्रण फरीदाबाद विकास बोर्ड में निहित था, जो पुनर्वास मंत्रालय के द्वारा भारत सरकार के अधिकार के अंतर्गत कामकाज करता था। उस वक्त यह वांछनीय भी नहीं माना जाता था कि केंद्र की सरकार को राज्य सरकार के क्षेत्र में स्थायी संलग्नक बनाए रखना चाहिए और इसलिए यह टाउनशिप पंजाब सरकार को सुपुर्द कर दी गई थी।

Faridabad me kya hai ये जानने केलिए आपको हमारी पूरी लेख को पढ़ना होगा ।

Faridabad me kya hai
आप सिखने वाले है hide

फरीदाबाद का स्थान और आकार

फरीदाबाद (मंडल और जिला)2 8 डिग्री 10’50’एन और 28 डिग्री 29’04” अक्षांश और 77 डिग्री 06’49”ई और 77 डिग्री 33’23”ई रेखांश के बीच स्थित है। इसमें 742.90 वर्ग किमी का भौगोलिक क्षेत्र है। फरीदाबाद जिला और डिवीजन हरियाणा राज्य के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में स्थित है। दिल्ली के दक्षिण क्षेत्रों में स्थित इसका घना आकार गुरुग्राम जिले की एनसीआर पश्चिम सीमा और युपी राज्य के पूर्वी क्षेत्रों में बनाया गया है। जबकि जिला पलवल दक्षिण क्षेत्र में स्थित है।

फरीदाबाद का प्राकृतिक भूगोल

फरीदाबाद शहर एक पूर्ववर्ती नदी यमुना के साथ एक सादा सा शहर है, जिसने यमुना नदी के साथ एक संकीर्ण बेल्ट के तौर पर अपना सादा क्षेत्र बना लिया है, यह अनय उपनगरीय शहरों से काफी अलग है। फरीदाबाद के पूर्व को खड़ार के रूप में जाना जाता है, जो की नए एल्यूवियम का वाला मैदान है। उत्तरार्द्ध को पुराने एल्यूवियम से बना एक ऊपरी मैदान, भंगार के रूप में जाना जाता है।

खड़ार वैसे तो आम तौर पर तीन से पांच किमी चौड़ा होता है और बारीश के दौरान यमुना नदी से बाढ़ के अधीन होता है। जब बारीश की सिजन के बाद बाढ़ घट जाती है तो के मैदान क्षेत्र में मिट्टी पर्याप्त नमी बरकरार रखती है। फरीदाबाद और बल्लबगढ़ ताहसील के उत्तर-पश्चिमी हिस्सों को भी कवर कर लेता है। इस उप-भाग की भौतिकता का हमें अरावली पहाड़ियों के अवशिष्ट अपशूटों की उपस्थिति से पता चलता है। यमुना खड़ार क्षेत्र यमुना नदी के साथ ही जिले के पूर्वी हिस्से में तक फैला हुआ है और इसकी ढलान दक्षिण की तरफ है।

इसे पढ़िए ➤ एशिया महादीप में कितने देश है ?

फरीदाबाद का जलनिकास

शहर में यमुना नदी की लंबाई करीब 45 किलोमीटर के आसपास तक है और चौडाई करीब 200 मीटर है। यह फरीदाबाद और उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर और अलीगढ़ जिलों के बीच की सीमा रेखा बनाता है। पश्चिमी यमुना नहर और आगरा नहर में पानी के विचलन ककी वजह से इस नदी में पानी का प्रवाह बहुत ही कम है। यहां पर यमुना के साथ पथ को खादर कहा जाता है और झार या जयरला नामक धारा के बाढ़ से एक द्वीप भी बनाया गया है। जैरनाला एक गहरे, संकीर्ण और खतरनाक है और बाढ़ के दौरान भारी नुकसान भी करता है।

फरीदाबाद में जलवायु

इस शहर में उप-उष्णकटिबंधीय महाद्वीपीय मॉनसून जलवायु है। जहां हमें मौसमी लय, गर्म गर्मी, ठंडी सर्दी, बिन मौसम की बारीश और तापमान में बहुत भिन्नता देखने को मिलती है। वैसे देखा जाए तो हरियाणा के पश्चिमी हिस्सों के संबंध में यहां बारीश संतोषजनक ही होती है। सर्दी के मौसम में यहां पर पश्चिमी चक्रवात से गुजरने के साथ-साथ कुछ बारिश भी होती है। साल के अधिकतर हिस्से में हवा आम तौर पर सूखी ही होती है। यहां पर तूफान के संजोग ज्यादातर अप्रैल से जून के दौरान होते हैं। हां, कभी-कभार सर्दी के मौसम में घने कोहरे भी होते हैं।

इसे पढ़िए ➤ 10 एशिया की सबसे लम्बी नदी साथ में पूरी दुनिया और भारत की लम्बी नदी

फरीदाबाद का जंगल

हरियाणा के इस जिले में फरीदाबाद और बल्लबगढ़ शामिल हैं, रेंज वन अधिकारियों की अध्यक्षता में वन श्रृंखलाएं हैं। ये सभी श्रेणियां फरीदाबाद वन नगर विभाग का हिस्सा फरीदाबाद नगर निगम में स्थित वनों के उप संरक्षक की प्रभारी हैं। यहां पर जिला गुरुग्राम के मुख्यालय के साथ दक्षिण वन विभाग में पड़ता है। वनों के नीचे का क्षेत्र स्वामित्व के अनुसार वर्गीकृत किया गया है, जैसे कि निजी और राज्य। कॉर्पोरेट निकायों और निजी व्यक्तियों के स्वामित्व वाले वन निजी वनों के अंतर्गत शामिल हैं।

जबकि राज्य वनों की बात करते हैं तो उन्हें आरक्षित, संरक्षित और अवर्गीकृत के रूप में वर्गीकृत किया गया है। फरीदाबाद में हर जगह बढ़ रहे जंद पेड़ बहुत ही उपयोगी हैं। अन्य उपयोगों के अलावा, जंद के पेड़ का उपयोग सर्दियों के दौरान मवेशियों के लिए चारा के रूप में किया जाता है। बल्लबगढ़ और फरीदाबाद तहसील में बड़े पैमाने पर काटने और पेड़ हटाने के बावजूद भी यह ज्यादातर जंगली हो जाते हैं।

जबकि आरक्षित जंगलों में पाए जाने वाले वनस्पति के बड़े हिस्से में करीर, हिन, जल, रतुंज, खैर, किकर, ढक, गुलर, पापरी और लासुरा शामिल हैं। आमतौर पर बराना, ओडोरा, इम्ली और अमाल्टस नहीं देखे जाते हैं। यहां पर बर्क का पेड़, ज्यादातर फल के लिए ऑर्चर्ड्स में लगाया जाता है और जिले में भी पाया जाता है। यहां पर शिशम और सिरीस तो मात्र सड़क के किनारे तक ही सीमित हैं।

इसे पढ़िए ➤ 97 किस देश का Telephone Code Hai ?

फरीदाबाद का मृदा और फसल पैटर्न

फरीदाबाद के बाढ़ मैदान क्षेत्रकी मिट्टी, जिसे खादर कहा जाता है, बरसात के मौसम के बाद भी पर्याप्त नमी बरकरार रखती है। जिले में ज्यादातर मिट्टी लोम (भंगार और नारदक) और रेशमी लोम (खड़ार) हैं। नेशनल ब्यूरो ऑफ मृदा सर्वेक्षण और भूमि उपयोग योजना (आईसीएआर), नागपुर, द्वारा वर्गीकृत मिट्टी मुख्य रूप से जलीय-फलियों और मिट्टी के मिट्टी के प्रकार होते हैं।

पलवल मैदान क्षेत्र में मिट्टी लोम (भंगार) और अपेक्षाकृत रेतीले लोम हैं। इसमें लोम ही अधिक उपजाऊ है। यमुना खड़ार क्षेत्र में लोम और रेशमी लोम मिट्टी ऐसी मिट्टी में शुमार हैं कि जिनके पास कम पानी की संग्रह (होल्डिंग ) की क्षमता है क्योंकि मिट्टी के शुष्क होने पर करना मुश्किल होता है।

जिले में उगाई गई फसलों को भी दो मुख्य श्रेणियों में बांटा गया है जैसे कि खरीफ और रबी। तरबूज और हरे चारा की खरीफ के रूप में खेती की जाती है। जिले की प्रमुख खरीफ फसलें धान, बाजरा, ज्वार, खरीफ दालें और खरीफ सब्जियां हैं। प्रमुख रबी फसलों में गेहूं, जौ, रबी तिलहन, सब्जियां और गन्ना शामिल हैं।

फरीदाबाद की कृषि

जिले की 79.5 प्रतिशत जनसंख्या शहरी क्षेत्रों में ही रह रही है, इसलिए तृतीयक गतिविधियां अनुपात में 84.6 प्रतिशत जितनी अधिक हैं, जो राज्य में सबसे अधिक है। राष्ट्रीय राजधानी के बेहद ही करीब होने के कारण तेजी से हो रहे औद्योगिक विकास और शहरी क्षेत्रों में आबादी की प्रवृत्ति ने जिले की अर्थव्यवस्था को बेहतर बना दिया है।

सरकार भी उन्नत बीजों, उर्वरकों, कीटनाशकों को वितरित करके कृषि उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए सभी प्रयास कर रही है, आधुनिक तकनीकों में नवीनतम विकास प्रदान कर रही है, कई फसल पैटर्न तकनीकें, सिंचाई सुविधाओं में वृद्धि, आधुनिक कृषि मशीनरी आदि के लिए आसान ऋण प्रदान (लोन लेना) करना आदि।

फरीदाबाद के उद्योग

Faridabad me kya hai अगर कोई सवाल पूछता है तो बोहोत से लोगों के मन में आता है की फरीदाबाद के उद्योग के बारेमें । हरियाणा राज्य देश के विकास के लिए अवसरों की एक भूमि है जो पिछले दशक में तेजी से औद्योगिक विकास कर चुका है। राज्य में औद्योगिकीकरण के मामले में फरीदाबाद जिला शीर्ष रैंकिंग है। इस जिले में एक ऐसा समृद्ध औद्योगिक आधार है और कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों, विदेशी निवेशकों और एनआरआई को आकर्षित करने में सक्षम रहा है।

प्राचीन काल से ही, कपास की सफाई, सूती दबाने और रंगीन मुद्रण जैसे क्षेत्र में कुटीर उद्योग प्रचलित था। यह देश के विभाजन के बाद ही हुआ था जब जिले के फरीदाबाद-बल्लबगढ़ क्षेत्र में आबादी का प्रवाह हुआ था। उनमें से कुछ उद्यमी लोगों ने राष्ट्रीय राजधानी के निकट होने का सही लाभ उठाया और औद्योगिक इकाइयों की स्थापना शुरू कर दी। यह वह दौर था सस्ता और कुशल श्रम उपलब्ध था और विनिर्मित उत्पादों के लिए बाजार की बहुत ही आसानी से उपलब्ध थी जिसने औद्योगिक विकास को भी बढ़ावा दिया था। साल 2010 के दौरान हरियाणा सरकार द्वारा जिले में निदेशक उद्योग पूर्ति की गई उस वक्त सूची के मुताबिक 311 बड़ी और मध्यम पैमाने की इकाइयां थीं।

इसे पढ़िए ➤ Adidas किस देश की कंपनी है और इसका मालिक कौन है ?

फरीदाबाद का ट्रांसपोर्ट

हम एक राज्य में ट्रांसपोर्ट और संचार एक विशेष क्षेत्र की अर्थव्यवस्था की तंत्रिका तंत्र है। 1883-84 में, वर्तमान नेशनल हाईवे दिल्ली-आगरा वर्तमान फरीदाबाद जिले में घूमने का एक स्थान था। बल्लबगढ़ दिल्ली का का हिस्सा था और पलवल क्षेत्र सड़कों के निर्माण के लिए स्वाभाविक रूप से अनुकूल था इसलिए इस हिस्से में संचार काफी अच्छा था। शेर शाह सूरी मार्ग के रूप में भी जाना जाने वाला एकमात्र नेशनल हाईवे 2 जिले में दिल्ली मथुरा के ब्रॉड गेज रेलवे लाइन के साथ दिल्ली से मथुरा तक उत्तर-दक्षिण दिशा में जिला का मार्ग को जोड़ता है। साल 2010-11 के दौरान जिले में कुल सड़क की लंबाई 533 किलोमीटर थी।

जिले की एकमात्र ब्रॉड गेज रेलवे लाइन यानी दिल्ली-मथुरा जिले के रेलवे स्टेशन फरीदाबाद, बल्लबगढ़ और असावटी से गुजरती है और जिले के महत्वपूर्ण फोकल बिंदुओं में फरीदाबाद, तिलपत और बल्लबगढ़ शामिल हैं।

फरीदाबाद की बिजली और शक्ति

2008-09 के दौरान ग्राम निर्देशिकाओं में राजस्व प्राधिकरणों द्वारा प्रदान की गई जानकारी के अनुसार फरीदाबाद जिले में, सभी 144 निवास गांव घरेलू उद्देश्यों, कृषि उद्देश्यों और अन्य उद्देश्यों के लिए बिजली का उपयोग करते हैं। जनगणना 2011 के नतीजे बताते हैं कि जिले के 94.4 प्रतिशत घर प्रकाश व्यवस्था के लिए बिजली का उपयोग करते हैं।

इसे पढ़िए ➤ भारत में कितने बंदरगाह है ?

अब हम जानते हैं कि एक ट्रैवलर के लिए क्या है फरीदाबाद में खास

अगर आप Faridabad me kya hai यानि फरीदाबाद में क्या पर्यटक स्टाल जानना चाहते है तो इसे आप पढ़िए ।फरीदाबाद हरियाणा राज्य का सबसे बड़ा शहर है, जोकि एनसीआर क्षेत्र में आता है। सर्वे के अनुसार, फरीदाबाद दुनिया का आठवां और भारत का तीसरा तेज से बढ़ते हुए शहरों में से एक है। हमने ऊपर जाना कि फरीदाबाद की स्थापना वर्ष 1607 ई. में सूफी संत शेख फरीद ने की थी, और इस शहर का नाम भी उन्ही के नाम पर रखा गया।

उन्होंने एक किले, मस्जिद और टंकी की निर्माण कराया था जिनके खण्डहर हम अभी भी देख सकते हैं। हालांकि, अब तो यह शहर हरियाणा का बड़ा शहर और हरियाणा का एक प्रमुख औद्योगिक केंद्र बन गया। हरियाणा राज्य में एकत्रित आयकर का 50% फरीदाबाद और गुड़गांव से ही है। फरीदाबाद कृषि क्षेत्र से हेन्ना उत्पादन के लिए भी बहुत ही प्रसिद्ध है, जबकि ट्रैक्टर, मोटरसाइकिल, स्विच गियर, रेफ्रीजरेटर, जूते, टायर और वस्त्र इसके प्राथमिक औद्योगिक उत्पादों का गठन भी करते हैं।

यदि अगर हम इस शहर के पर्यटन बात करते हैं तो यहां ऐसा बहुत कुछ है जिस के कारण साल भर ही यहां पर्यटकों की भारी भीड़ लगी रहती है। तो चलिए इस बात पर तो आपको भी यह जानना चाहिए कि आखिर फरीदाबाद में ऐसा क्या है जिसे आपको अवश्य देखना ही चाहिए।

इसे पढ़िए ➤ ताजमहल कहा स्थित हैं ? ताजमहल बनाने में कितना समय लगा था?

राजा नाहरसिंह पैलेस

अगर आप वीकेंड धूमने का प्लान बना रहे हैं तो फिर फरीदाबाद में स्थित राजा नाहरसिंह पैलेस की। ही सैर करें, यह दक्षिण दिल्ली से 15 किमी की दूरी पर स्थित है। ऐसा बताया जाता है कि, यह महल करीब 18वीं सदी में जाट नाहरसिंह के उत्तराधिकारियों द्वारा निर्माण किया गया था। इस सुन्दर महल के निर्माण का संपूर्ण कार्य सन् 1850 में पूरा हुआ था। इस स्थल को बल्लभगढ़ किला महल के नाम से भी जाना जाता है, इस महल के मण्डप और आँगन बेहद ही सुन्दर हैं। इसकी झुकी हुई मेहराबें और सुन्दर रूप से सजे कमरे हमें हमारे इतिहास के पन्ने में वापस ले जाते हैं। अब यह एक विरासत एक सम्पत्ति है। इस महल के चारों तरफ कई शहरी केन्द्र हैं। यह राजसी महल बड़ी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित करता रहता है।

सूरजकुंड झील

अगर आप फरीदाबाद के शोरगुल से परेशान कुछ पल शांति के बिताने चाहते हैं, तो आपको फरीदाबाद स्थित सूरजकुंड झील की मुलाकात लेनी चाहिए, जोकि सूरजकुंड मेले के लिए भी फेमस है। इस झील का एक प्रतीकात्मक महत्व है और यह उगते सूरज का प्रतीक माना जाता है। यह एक बेहद ही प्रसिद्ध पिकनिक स्पॉट है और यह चट्टानों से काटी गई सीढियों से घिरा है। यह स्थान दक्षिण दिल्ली से 8 किमी की दूरी पर है। इस स्थल पर एक सिद्ध कुण्ड है जिसके पानी में रोगों से मुक्त करने की असीम शक्ति मानी जाती है। सूरजकुण्ड परिसर में बेहद ही सुन्दर राजहंस और बगीचा भी है।

हर वर्ष 1 से 15 फरवरी के बीच इस झीले के किनारे सूरजकुण्ड अन्तर्राष्ट्रीय महोत्सव का आयोजन होता है। इस महोत्सव को दौरान लोकनृत्य, संगीत, हवाई करतब और जादू के शो का आयोजन होता है। साथ ही दुनिया भर से पर्यटक इस मेले में आते हैं। इस मेले का महत्वपूर्ण अंग हमारे भारतीय पकवान हैं।

फरीद खान का मकबरा

फरीदाबाद में शेख फरीद या बाबा फरीद के मकबरे के संगमरमर से बने दो विशाल द्वार हैं। पूर्वी वाला दरवाजा नूरी दरवाजा या प्रकाश का द्वार और उत्तरी दरवाजा बहिश्ती दरवाजा या स्वर्ग का द्वार कहलाता है। इस मकबरे के अन्दर कपड़े या चद्दर से ढकी हुई दो संगमरमर की गुफायें हैं। ये बाबा फरीद और उनके बड़े बेटे की कब्रें हैं। लोग यहाँ आते हैं और फूल चढ़ाते हैं। हलाँकि महिलाओं को अन्दर जाने की अनुमति नहीं है।

बड़खल झील

फरीदाबाद में बड़खल झील दिल्ली बॉर्डर से आठ किमी की दूरी पर स्थित है। बड़खल झील,बड़खल गांव में स्थित है। अरावली रेंज की पहाड़ियों में स्थित यह बड़खल झील एक मानव निर्मित तटबंध है, जहां पर्यटक वाटर स्पोर्टस का लुत्फ उठा सकते हैं। बड़खल का शाब्दिक अर्थ होता है, बिना किसी रूकावट। इस झील में पानी की आपूर्ति बारिश के पानी से और साथ ही एक छोटी-सी जलधारा से होती है। पर्यटकों की सुविधा और ठहरने के लिए झील के पास ही बहुत से रेस्ट हाऊस भी बने हुए हैं।

इसे पढ़िए ➤ 40+ Colors Name in Hindi & English 

फरीदाबाद की संस्कृति

फरीदाबाद शहर जो हरियाणा राज्य के सबसे पुराने शहरों में से एक है साथ ही यह राज्य का सबसे बड़ा शहर भी है। जिस शहर ने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन या औद्योगीकरण के आगमन के लिए मुगल साम्राज्य के शासन को लंबे समय तक देखा है, उसकी संस्कृति और विविध पारंपरिक मान्यताओं के बारे में तो बहुत कुछ कहा जाना है।

व्यावसायीकरण के मामले में तो हर दिन बढ़ रही ऊंचाइयों ने फरीदाबाद जिले को भारत के औद्योगिक मानचित्र में देश के औद्योगिक केंद्र के रूप में अनोखी पहेचान दी है। हरियाणा का फरीदाबाद निश्चित रूप से एक महानगरीय शहर है क्योंकि देश के सभी हिस्सों से लोग रोजगार के विकल्प के लिए इसे पसंद कर रहे हैं।

देश की राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली और एनसीआर के साथ करीब होने के कारण, फरीदाबाद सभी प्रकार की विभिन्न जातीय संस्कृतियों और लोकप्रिय मान्यताओं का पालन करता है। यह शहर सभी जातियों और पंथों के लोगों के निवासियों का हिस्सा होने के कारण उनका पालन भी करता है। कॉर्पोरेट संस्कृति के प्रसार के साथ ही यहां पर जीवन और जीवन शैली के प्रति आधुनिक अभी तक निहित मानसिकता है। फरीदाबाद के मेले, त्यौहार, कार्यक्रम और आकर्षण शहर की संस्कृति को सरल लेकिन बेहद ही आश्चर्यजनक तरीके से दर्शाते हैं। यहां पर पर्यटन ने पिछले दशक में एक गति पकड़ी है क्योंकि यह शहर के लिए राजस्व का एक उच्च उपज स्रोत ही बन गया है।

फरीदाबाद में बोली जाने वाली भाषा

उत्तरी बेल्ट पर स्थित होने के कारण, फरीदाबाद अपनी स्थानीय भाषा के रूप में हिंदी का अनुसरण करता है। राष्ट्रभाषा के अलावा यहां पर जाट के हरियाणवी भाषा के ज्ञान का अत्यधिक प्रभाव है। शहर के विभिन्न हिस्सों में पंजाबी और बंगाली बोलने वाले भी रहते हैं।

फरीदाबाद में कला और संगीत

एक महानगरीय शहर के रूप में, राज्य के सबसे अधिक व्यावसायिक शहरों में से एक होने के बावजूद भी, फरीदाबाद कला और संगीत के प्रति बहुत उत्साह साझा करता है। सामान्य भारतीय शास्त्रीय संगीत हरियाणवी और पंजाबी संगीत के साथ-साथ ही यह शहर के संगीत प्रेमियों को भी मंत्रमुग्ध कर देता है। विशेष रुचि रखने वाले लोगों के साथ, शहर भरतनाट्यम और कुचिपुड़ी जैसे अन्य नृत्य रूपों की एक श्रृंखला भी आयोजित करता रहता है।

थिएटर समूहों में अभिनय के बाद शहर में भारी भीड़ होती है और कलाकार साल के हर समय अपने नाटकों का प्रदर्शन करते रहते हैं। शहर में बहुत से लोग सूफियाना संगीत का चयन क्यों करते हैं इसके पीछे एक कारण है कि यह सूफी संत, बाबा फरीद द्वारा स्थापित किया गया शहर हैं।

इसे पढ़िए ➤ पुरे दुनिया का यानि World का सबसे बड़ा सिंगर कौन है ?

फरीदाबाद में मेले और त्यौहार

फरीदाबाद प्रमुख जाति और धर्मों जैसे दीपावली, क्रिसमस, बैसाखी, लोहड़ी और होली जैसे सभी प्रकार के त्योहारों मनाएंहै। इन त्योहारों के दिनों में फरीदाबाद में देश भर में से भी बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं।

फूलों का त्योहार

यहां पर बड़कल झील के तट पर वसंत सत्र के दौरान होने वाला फूल उत्सव जिले के सबसे खूबसूरत त्योहारों में से एक है। फूलों की प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेने के लिए देश के कोने-कोने से पर्यटकों की भीड उमटती हैं। साथ ही फूलों की खरीदारी की कतार में चल रहे कई व्यवसाय भी यहां स्थापित हैं। बड़ी मात्रा में यहां पर आयात और निर्यात भी किया जाता है।

गंगौर महोत्सव

फरीदाबाद में बहुतायत की देवता मानी जाने वाली गौरी की पूजा करने के लिए मार्च से अप्रैल तक वसंत ऋतु के दौरान गंगोरे उत्सव को मनाया जाता है। गंगोरे और ईश्वर की छवियों के जल विसर्जन के साथ ही भव्य जुलूस निकाला जाता है।

फरीदाबाद में सूरजकुंड शिल्प मेला

सूरजकुंड शिल्प मेला फरीदाबाद का एक ऐसा मेला है जहां हम देश के सभी हिस्सों से लोगों की भारी भीड़ और श्रद्धालुओं को देखते हैं । यहां पर प्रदर्शनी देखने के लिए हथकरघा और हस्तशिल्प प्रदर्शित होते हैं। साथ ही यहां पर क्राफ्टिंग की विभिन्न विधियों और तकनीकों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए हर साल फरवरी महीने में मेले का आयोजन होता है। साथ ही यह मेला खाद्य महोत्सव, प्रतिभागियों के नृत्य और गायन का मार्ग भी प्रशस्त करता है जो उत्सव के दौरान मुख्य आकर्षण होते हैं।

बसंत पंचमी

फरीदाबाद में शिक्षा और ज्ञान की देवी मानी जाने वाली सरस्वती देवी को समर्पित, बसंत पंचमी पतंग उड़ाकर मनाई जाती है। इस त्यौहार में खाने-पीने से लेकर कपड़े तक, क्षेत्र को पीले रंग से रंगा जाता है क्योंकि इसे एक बहुत ही शुभ रंग माना जाता है।

फरीदाबाद की संस्कृति और जीवन शैली को केवल अनुभव अपनी सुंदरता के मामले में विशाल और विविध है। फरीदाबाद निश्चित रूप से हमारे देश की एक आश्चर्यजनक जगह है।

इसे पढ़िए ➤ दुनिया का खतरनाक जानवर नाम क्या है?

निष्कर्ष

आज हमने इसी पोस्ट के अंदर Faridabad me kya hai इसके बारेमें आपको जानकारी दी और फरीदाबाद से समन्धित पूरी जानकारी आपके सामने राखी है इसके घूमने की जगह से लेके खाना पीना और कुर्शी अदि । हम असा करते है तो आपको इसी पोस्ट के अंदर Faridabad से समन्धित साडी जानकरी आपको दे पाए है । अगर आपको हमारे ये जानकारी अच्छा लगा है तो आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिये और अगर आपको कुछ जानना है इसके बारेमें तो आप हमें कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है ।

Similar Posts

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.